for reference only

कार्गिल विजय दिवस (Kargil Vijay Diwas): कुछ अनसुने तथ्य

जुलाई 26 सन 1999, कारगिल (Kargil) पर हिन्दुस्तानी सेना ने अपनी जीत दर्ज की। 60 दिन चले इस महायुद्ध (war) को आखिरकार भारत ने जीत ही लिया और पाकिस्तानी सेना के नापाक इरादे चकनाचूर कर दिए। सैकड़ों सिपाहियों ने शहादत पाई। आज हम 26 जुलाई को “कारगिल विजय दिवस” (Kargil Vijay Diwas) के नाम से प्रति वर्ष मनाते हैं और अपने जांबाज़ शहीद सिपाहियों को श्रंद्धांजलि देते हैं।

पर क्या हम सब कुछ जानते हैं कारगिल और उस विजय के बारे में। आइये कुछ ऐसी बातें जाने जो अब तक अनसुनी हैं।

  1. नियंत्रण रेखा (Line of control)

    :

नियंत्रण रेखा का शिमला समझौते के आधार पर सीमांकन है। जम्मू-कश्मीर में कारगिल जिला श्रीनगर से 205 किलोमीटर (127 मील) की दूरी पर स्थित है।

२. वह सुखद जीत:

भारतीय सेना 11 लाख सक्रिय कर्मियों के साथ दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी सेना है और उसके आरक्षित बलों में 10 लाख कर्मी है जिन्होंने साहस और राष्ट्र के लिए बलिदान की अपनी परंपरा को सच साबित किया है। भारतीय सेना के 7 लाख से अधिक सैनिकों को नियंत्रण रेखा के दूसरी तरफ घुसपैठियों को रोकने और भगाने के लिए तैनात किया गया और 3 महीने के लंबे ऑपरेशन के बाद क्षेत्र सुरक्षित हुआ।

  1. मूल बातें:

कारगिल की प्रतिकूल परिस्थितियां काफी मिलती जुलती थीं 1962 के भारत-चीन सीमा संघर्ष से और मई 1998 में भारत और पाकिस्तान दोनों द्वारा आयोजित परमाणु परीक्षण ने 1999 की गर्मियों में नियंत्रण रेखा पर तनाव पैदा किया।

  1. दुर्गम इलाका:

राष्ट्रीय राजमार्ग -1 डी, लेह क्षेत्र को कारगिल से गुजरता हुआ श्रीनगर से जोड़ता है। हवाई मार्ग के अलावा, यह कारगिल क्षेत्र के लोगों और सेना कर्मियों के लिए जीवन रेखा माना जाता है। राष्ट्रीय राजमार्ग 1 डी अत्यंत दुर्गम इलाका है जहां हिमस्खलन और भूस्खलन सर्दियों में आम बात है.

  1. जब उन्हें देखा गया:

यह 3 मई 1999 की बात है, जब कुछ स्थानीय चरवाहों ने कारगिल क्षेत्र के पहाड़ों में गतिविधियां देखी और भारतीय सेना को सूचित किया। कुछ आदिवासी जो भारी हथियारों से लैस थे और संतरी पदों के निर्माण के साथ बंकरों को कब्जे में कर रहे थे। उनकी मौजूदगी की सूचना दी गयी।

  1. संयुक्त राष्ट्र में:

पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर पर नियंत्रण पाने और भारतीय चौकियों पर कब्जा करने के लिए मुद्दा उठया, लेकिन भारतीय प्रतिरोध के कारण विफल रहा। यह पाक की विदेश नीति की एक पूर्ण विफलता और भारतीय टीम के लिए एक बड़ी जीत थी।

  1. एक विश्वासघाती समझौता:

पाक सेना और तालिबान लड़ाकों ने एक उच्च ऊंचाई युद्ध क्षेत्र (पहाड़ी इलाके) में भारतीय विमान हिट करने के लिए दंश SAMs (सतह से हवा मिसाइलों) का इस्तेमाल किया। बटालिक सेक्टर में भारत ने एक एमआई -17 और एमआई -8 हेलीकाप्टर के अलावा दो लड़ाकू विमानों मिग -21 और मिग -27 खो दिये। भारतीय वायु सेना के पायलट स्क्वाड्रन लीडर अजय आहूजा को पाकिस्तान सेना द्वारा सिर में गोली मार दी गयी थी। अजय की मौत जिनेवा कन्वेंशन के तहत एक cold blooded murder था।

  1. कैप्टन सौरभ कालिया घटना (Captain Saurabh Kaaliya):

भारतीय शहीद कैप्टन सौरभ कालिया और गश्त पार्टी के साथ-साथ 5 अन्य सैनिकों के शरीर बुरी तरह से मई, 1999 (5 मई के बाद) के दूसरे सप्ताह में क्षत-विक्षत हो गये थे। दूसरी ओर, भारतीय सेना ने शहीद पाक सैनिकों के लिए उचित ताबूतों की व्यवस्था की और उन सब को गरिमा और सम्मान के साथ विदा किया जिसके वे हकदार थे।

  1. आपूर्ति लाइन का नष्ट होना:

घुसपैठियों और अन्य उग्रवादी समूहों के साथ पाक सेना ने राष्ट्रीय राजमार्ग 1 ए (एनएच 44; कश्मीर-जम्मू घाटी को जोड़ने वाला) पर भारी बमबारी कर उसे नष्ट किया। जिससे की युद्ध के (मई 1999) प्रारंभिक दिनों में अग्रिम चौकियों पर भारतीय सेना को राशन और गोला बारूद की आपूर्ति में बाधा उत्पन्न हुई।

  1. युद्ध से ठीक पहले:

524 भारतीय सैनिकों को जवाबी कार्रवाई के दौरान अपने जीवन का बलिदान देना पड़ा और 13,363 गंभीर रूप से घायल हुए। जबकि 696 पाक सैनिकों और नियंत्रण रेखा के पाकिस्तानी पक्ष के 40 नागरिकों ने अपना जीवन खो दिया।

  1. वो आखरी प्रयास:

टाइगर हिल (प्वाइंट 5140) पर अंतिम हमले में पांच भारतीय सैनिकों और 10 पाकिस्तानी सैनिकों की जान चली गई। कैप्टन विक्रम बत्रा ने भी एक घायल अधिकारी (कैप्टन नवीन) का  बचाव करते हुए अपने जीवन खो दिया है।

  1. असंभव कुछ नहीं है:

उच्च प्रशिक्षित पुरुषों ने 16,500 फुट की ऊंचाई पर खड़ी चट्टान के माध्यम से टाइगर हिल का दरवाजा खटखटाया। यह रणनीती द्रास-कारगिल सड़क पर नियंत्रण हासिल करने के लिए महत्वपूर्ण थी, क्योंकि घुसपैठिये टाइगर हिल से राष्ट्रीय राजमार्ग -1 डी पर गोलीबारी करने में सक्षम थे।

2 thoughts on “कार्गिल विजय दिवस (Kargil Vijay Diwas): कुछ अनसुने तथ्य”

  1. अमित सिसोदिया

    धन्यवाद छोटी-छोटी जानकारियों को संकलित करने के लिए

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *